विधवा होने के लक्षण – विधवा स्त्री का जीवन – विधवा रेखा

विधवा होने के लक्षणविधवा स्त्री का जीवन – विधवा रेखा – हिंदू सनातन धर्म में स्त्रियों को देवी का स्वरूप माना जाता हैं. स्त्री की शादी हो जाने के बाद वह स्त्री सुहागन हो जाती हैं. अर्थात शादी करने के बाद अगर स्त्री का पति जीवित है. तो वह सुहागन कहलाती हैं. लेकिन सब स्त्री के भाग्य में पति का उम्र भर का साथ नहीं होता हैं. कुछ स्त्रियों के पति बीच रास्ते में ही अपनी पत्नी को अलविदा कहकर शांत हो जाते हैं. अर्थात जिस स्त्री का पति जीवित नहीं हैं. उस स्त्री को हमारे समाज में विधवा का दर्जा दे दिया जाता हैं.

कुछ समाज में तो स्त्रियां पति की मृत्यु के बाद अपने जीवन को बेहतर बनाने के लिए अन्य पुरुष के साथ शादी कर लेती हैं. लेकिन कुछ समाज में ऐसे रीती रिवाज होते है की एक बार स्त्री विधवा होने पर उसे सारी उम्र विधवा ही रहना पड़ता हैं. वह दूसरी शादी नहीं कर सकती हैं.

vidhva-hone-ke-lakshan-stri-ka-jivan-rekha (2)

दोस्तों आज हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से विधवा होने के लक्षण तथा विधवा स्त्री का जीवन के बारे में बताने वाले हैं. इसके अलावा इस टॉपिक से जुडी अन्य और भी जानकारी प्रदान करने वाले हैं. तो यह सभी महत्वपूर्ण जानकारी पाने के लिए हमारा यह आर्टिकल अंत तक जरुर पढ़े.

तो आइये हम आपको इस बारे में संपूर्ण जानकारी प्रदान करते हैं.

विधवा होने के लक्षण                    

एक विधवा स्त्री के कैसे लक्षण होते हैं. इसके बारे में थोड़ी महत्वपूर्ण जानकारी हमने नीचे प्रदान की हैं.

  • एक विधवा स्त्री को अपने जीवन में काफी सारे संघर्ष का सामना करना पड़ता हैं. पति की मृत्यु के बाद कुछ विधवा स्त्रियां दूसरी शादी करके अपने जीवन को बेहतर बनाने की कोशिश करती हैं.
  • कुछ विधवा स्त्रियां दूसरी शादी नहीं करके अपने जीवन में आने वाले संघर्ष का सामना करती हैं. और खुद अपने जीवन को सुधारने की कोशिश करती हैं.
  • अगर किसी विधवा स्त्री के बच्चे भी है. तो वह अपना संपूर्ण जीवन उनके भविष्य के बारे में सोचकर निकाल लेती हैं.
  • कुछ स्त्रियां पति की मृत्यु के बाद स्वतंत्र भी हो जाती हैं. क्योंकि उन्हें कोई कुछ कहने वाला नहीं होता हैं. तो वह अपनी मर्जी के हिसाब से अपना जीवन व्यतीत कर सकती हैं.

आदि प्रकार के लक्षण आपको एक विधवा स्त्री में देखने को मिल जाएगे. पति की मृत्यु के बाद स्त्री के विधवा होने पर स्त्री को अपना जीवन कैसे व्यतीत करना है. वह उसके स्वभाव और संस्कार पर भी निर्भर करता हैं. इसलिए एक विधवा स्त्री में विभिन्न प्रकार के लक्षण आपको देखने को मिल जाएगे.

पीरियड कम आने के नुकसान / पीरियड में कम ब्लड आए तो क्या करें

विधवा स्त्री का जीवन

पति की मृत्यु के बाद एक विधवा स्त्री का जीवन संघर्षमय बन जाता हैं. उसके पति की जो जिम्मेदारी थी. वह सभी जिम्मेदारी उस पर आ जाती हैं. जैसे की घर परिवार और बच्चो को संभालने की जिम्मेदारी अब उसे उठानी पड़ती हैं.

इसके अलावा कुछ समाज में विधवा स्त्री को पति की मृत्यु के बाद सफ़ेद वस्त्र धारण करने पड़ते हैं. किसी भी प्रकार का श्रृंगार आदि करने की मनाई होती हैं. कुछ समाज में तो विधवा स्त्री को प्याज और लहसुन खाने की मनाई कर दी जाती हैं. अर्थात शोर्ट में कहा जाए तो पति की मृत्यु के बाद एक विधवा का पूरा जीवन मुश्किल भरा हो जाता हैं.

विधवा रेखा

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार हमारी हथेली में सबसे छोटी ऊँगली के नीचे विवाह रेखा मौजूद होती हैं. यह रेखा आगे जाकर अगर ह्रदय रेखा से मिलती हैं. या फिर इस रेखा पर कोई काला धब्बा मौजूद हैं. तो ऐसी रेखा जातक के लिए सही नहीं मानी जाती हैं. ऐसी रेखा होने पर स्त्री बहुत जल्दी विधवा हो सकती हैं. ऐसी रेखा को विधवा रेखा के नाम से जाना जाता हैं.

विधवा होने के बाद शारीरिक और मानसिक लक्षण

कोई भी स्त्री विधवा होने के बाद उसमे शारीरिक और मानसिक लक्षण दिखाई दे सकते हैं. जिसके बारे में हमने नीचे जानकारी प्रदान की हैं.

  • विधवा होने के बाद मृत्यु दर में वृद्धि हो सकती हैं. क्योंकि स्त्री विधवा होने के का बाद अकेलापन महसूस करती हैं. और इस वजह से कई बार मृत्यु की दिशा अपना लेती हैं. और गलत कदम उठा लेती हैं.
  • विधवा होने के पश्चात अकेलेपन के कारण महिला मानसिक रूप से परेशान हो जाती हैं. उसमे घबराहट और बेचैनी देखने को मिल सकती हैं.
  • विधवा होने के पश्चात स्त्री के मन में भय उत्पन्न होने लगता हैं. वह कई बार अनिद्रा जैसी बीमारी से पीड़ित हो जाती हैं.
  • इसके अलावा काफी सारी शारीरिक बीमारी का शिकार बन जाती हैं.

vidhva-hone-ke-lakshan-stri-ka-jivan-rekha (1)

मंदिर में पैसे मिलना शुभ या अशुभ – अर्थी के सिक्के मिलना शुभ या अशुभ

किसी के विधवा होने का क्या मतलब है?

अगर किसी शादीशुदा महिला के पति मी मृत्यु हो जाती हैं. वह महिला विधवा हो जाती हैं. यानी की वह अपनी और अपने बच्चो के भरणपोषण की जिम्मेदारी स्वयं लेती हैं. कुछ समाज में विधवा होने के बाद महिला दूसरी शादी नही कर सकती हैं.

विधुर किसे कहते हैं

जिस शादीशुदा महिला के पति की मृत्यु होती हैं. उस महिला को विधवा कहां जाता हैं. और जिस शादीशुदा पुरुष की पत्नी की मृत्यु हो जाती हैं. उसे विधुर कहा जाता हैं.

FAQs (अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न)

विधवा का दूसरा अर्थ क्या है?

विधवा को अन्य कुछ इन नामो से भी जाना जाता हैं. अवशेष, बेवा, विधुर, विडोव

इंग्लिश में विधवा को क्या बोलते हैं?

इंग्लिश में विधवा को Widows बोलते हैं.

क्या एक आदमी को विधवा कहा जा सकता है?

जी नहीं पुरुष के विधवा नही बल्कि विधुर शब्द का उपयोग होता हैं. अगर किसी पुरुष की पत्नी मर चुकी हैं. तो उस पुरुष को विधुर कहा जाता हैं.

यदि आपका प्रेमी मर जाता है तो क्या आप विधवा हैं?

जी नहीं प्रेमी के मरने पर विधवा शब्द का प्रयोग नही किया जा  सकता हैं. जिस शादीशुदा महिला का पति मर जाता हैं. तो वह विधवा कहलाती हैं. लेकिन अगर वह महिला किसी अन्य से शादी कर लेती हैं. तो फिर वह भी विधवा नही कहलाती हैं.

क्या कोई विधवा दोबारा शादी कर सकती है?

जी हाँ कोई भी विधवा महिला अपनी इच्छा अनुसार दोबारा शादी कर सकती हैं. इसके लिए कानून में भी प्रावधान बनाया गया हैं. अगर किसी महिला को कोई दोबारा शादी करने से रोक रहा हैं. तो ऐसे में वह महिला कोर्ट का सहारा ले सकती हैं.

vidhva-hone-ke-lakshan-stri-ka-jivan-rekha (3)

सपने में सड़क पर पैदल चलना और दौड़ना कैसा होता है 

निष्कर्ष

दोस्तों आज हमने आपको इस आर्टिकल के माध्यम से विधवा होने के लक्षण तथा विधवा स्त्री का जीवन के बारे में बताया हैं. इसके आलावा इस टॉपिक से जुडी अन्य और भी जानकारी प्रदान की है.

हम उम्मीद करते है की आज का हमारा यह आर्टिकल आपके लिए उपयोगी साबित हुआ होगा. अगर उपयोगी साबित हुआ है. तो आगे जरुर शेयर करे. ताकि अन्य लोगो तक भी यह महत्वपूर्ण जानकारी पहुंच सके.

दोस्तों हम आशा करते है की आपको हमारा यह विधवा होने के लक्षणविधवा स्त्री का जीवन – विधवा रेखा आर्टिकल अच्छा लगा होगा. धन्यवाद

सपने में पिता और भाई को देखना / सपने में जीवित पिता को देखना

शिवलिंग पर चढ़ा हुआ बेलपत्र खाने से क्या होता है – 5 आश्चर्यजनक फायदे जाने

Shailesh Nagar

Leave a Comment