राहु-केतु और शनि को प्रसन्न करने के खास उपाय – 4 सबसे आश्चर्यजनक रिजल्ट देने वाले उपाय

राहु-केतु और शनि को प्रसन्न करने के खास उपाय – 4 सबसे आश्चर्यजनक रिजल्ट देने वाले उपाय – राहु-केतु और शनि इन तीनो ग्रह के बारे में तो आप सभी लोग जानते ही होगे. यह तीनो ग्रह अगर हमारी कुंडली में हैं. तो इसका असर हमारे जीवन पर पड़ता हैं. और वह भी नकारात्मक असर पड़ता हैं.

राहु-केतु और शनि के बुरे प्रभाव से हमारे जीवन में काफी सारी समस्या आ सकती हैं. हमारी कुंडली में इन तीनो की बुरे प्रभाव के साथ मौजूदगी हमारे लिए पीड़ादायक हो सकती हैं. इसलिए इन तीनो ग्रहों को खुश करना हमारे लिए आवश्यक बन जाता हैं.

rahu-ketu-aur-shani-ko-prasnna-karne-ke-khas-upay (2)

अगर हम राहु-केतु और शनि को प्रसन्न कर लेते हैं. तो इनका बुरा प्रभाव हमारी कुंडली से खत्म होता हैं. और हमे सुख की प्राप्ति होती हैं. ऐसे ही कुछ राहु-केतु और शनि को प्रसन्न करने के उपाय आज हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से बताने वाले हैं. इसलिए आज के हमारे इस आर्टिकल में अंत तक बने रहिये.

दोस्तों आज हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से राहु-केतु और शनि को प्रसन्न करने के खास उपाय बताने वाले हैं. इसके अलावा इस टॉपिक से जुडी अन्य और भी जानकारी प्रदान करने वाले हैं.

तो आइये हम आपको इस बारे में संपूर्ण जानकारी प्रदान करते हैं.

राहु-केतु और शनि को प्रसन्न करने के खास उपाय

राहु-केतु और शनि को प्रसन्न करने के कुछ ख़ास उपाय के बारे में हमने नीचे विस्तारपूर्वक जानकारी प्रदान की हैं.

राहुकेतु और शनि को प्रसन्न करने का ख़ास उपाय– 1

अगर आप राहु-केतु और शनि तीनो ग्रह से पीड़ित हैं. तो आपको शनिवार के दिन शनि देवता के मंदिर जाकर उनको तेल अर्पित करना हैं. और उनके दर्शन करने हैं. साथ साथ काला कुत्ता शनि देवता का प्रतीक माना जाता हैं. इसलिए शनिवार के दिन शनिदेवता के दर्शन करने के बाद आपको किसी काले कुत्ते को खाना खिलाना हैं.

52 भैरव मंत्र | 64 जोगनी 52 भैरव मंत्र और नाम

अगर आप शनिवार के दिन शनिदेवता के दर्शन करके काले कुत्ते को खाना खिलाते हैं. तो इससे शनिदेवता आप पर प्रसन्न होते हैं. इसके अलावा इस उपाय से राहू और केतु से जुड़े दोष से भी हमे मुक्ति मिलती हैं. यह उपाय एक ऐसा उपाय है जिसे करने से राहु-केतु और शनि तीनो ग्रह शांत होते हैं. और हम पर प्रसन्न होते हैं.

अगर आप शनिवार के दिन यह उपाय करते हैं. तो शनि के बुरे प्रकोप से बच जाते हैं. और राहू केतु के बुरे प्रभाव से भी मुक्ति मिलती हैं. इससे शनि की साढ़े साती से भी हमे मुक्ति मिलती हैं.

राहुकेतु और शनि को प्रसन्न करने का ख़ास उपाय– 2 

अगर आपकी कुंडली में राहु-केतु और शनि बुरे प्रभाव से स्थित हैं. तो ऐसे में आप एक उपाय कर सकते हैं. आपको रोजाना आपके घर पर बनी पहली रोटी गाय माता को खिलानी हैं. और सबसे लास्ट वाली रोटी किसी भी काले कुत्ते को खिला देनी हैं. साथ साथ आपको पक्षियों को भी दाना पानी देना शुरु करना हैं.

यह उपाय आपको रोजाना नियमित रूप से करना हैं. इस उपाय से आपको शनि दोष के साथ साथ राहु-केतु के बुरे दोष से भी मुक्ति मिलेगी. इस उपाय से तीनो ग्रह राहु-केतु और शनि आप पर प्रसन्न होते है. और आपको उनके आशीर्वाद की प्राप्ति होती हैं.

शिवलिंग पर चढ़ा हुआ बेलपत्र खाने से क्या होता है – 5 आश्चर्यजनक फायदे जाने

राहू को प्रसन्न करने का मंत्र

अगर आप राहू के दोषों से परेशान हो चुके हैं. और आपकी कुंडली में राहू बिराजमान हैं. तो ऐसे में आप राहू मंत्र का जाप करके राहू को प्रसन्न कर सकते हैं. हमने नीचे राहू मंत्र और राहू मंत्र जाप करने की विधि बताई हैं.

मंत्र ॐ भ्रां भ्रीं भ्रौं सः राहवे नमः

अगर आप राहू को प्रसन्न करना चाहते हैं. तो राहू के इस मंत्र का जाप कर सकते है. राहू का यह मंत्र आप कभी भी जाप कर सकते हैं. आप सुबह उठकर स्नान आदि करने के बाद या फिर शाम के समय भी इस मंत्र का जाप कर सकते हैं.

आप इस मंत्र का जाप अपनी इच्छा अनुसार कितनी भी बार कर सकते हैं. लेकिन राहू मंत्र का जाप आपको रोजाना कम से कम 108 बार तो करना ही हैं. इस मंत्र के जाप के लिए आप किसी भी माला का उपयोग कर सकते हैं.

किसी को पैसा कब देना चाहिए / रात में किसी को पैसा देना चाहिए या नहीं 

केतु को प्रसन्न करने का मंत्र

अगर आपकी कुंडली में केतु बुरे प्रभाव से स्थित हैं. तो ऐसे में आपको काफी सारी समस्या का सामना करना पड़ता हैं. इस स्थिति में आप केतु को प्रसन्न करने के लिए केतु मंत्र का सहारा ले सकते हैं. हमने नीचे केतु को प्रसन्न करने का मंत्र और जाप विधि नीचे बताई हैं.

मंत्र ॐ स्रां स्रीं स्रौं सः केतवे नमः

आप केतु को प्रसन्न करने के लिए इस मंत्र का जाप कर सकते हैं. आप इस मंत्र का जाप कभी भी सुबह या शाम के समय कर सकते हैं. लेकिन आपको इस मंत्र का जाप स्फटिक की माला से कम से कम 108 बार जरुर करना हैं.

rahu-ketu-aur-shani-ko-prasnna-karne-ke-khas-upay (1)

शनि को प्रसन्न करने का मंत्र

अगर आपकी कुंडली में शनि बुरे प्रभाव से मौजूद हैं. तो ऐसे में आप शनि को प्रसन्न करने के लिए शनि मंत्र का जाप कर सकते हैं. हमने शनि मंत्र और जाप विधि नीचे बताई हैं.

मंत्र  ॐ प्रां प्रीं प्रौं सः शनैश्चराय नमः

आप शनि को प्रसन्न करने के लिए इस मंत्र का जाप कर सकते हैं. यह मंत्र भी आपको रोजाना सुबह या शाम के समय जाप करना हैं. इस मंत्र का जाप आपको 108 बार करना होगा. इसके अलावा आप अपनी इच्छा अनुसार 108 बार से भी अधिक बार कर सकते हैं.

राहु-केतु और शनि को प्रसन्न करने के यह कुछ उपाय और मंत्र थे. जिसके माध्यम से आप राहु-केतु और शनि को प्रसन्न कर सकते हैं.

गायत्री मंत्र के 13 गुप्त उपाय – सवा लाख गायत्री मंत्र का प्रभाव

राहूकेतु दोष दूर करने के सरल उपाय

राहू और केतु से उत्पन्न हुए दोष को दूर करने के लिए आप नीचे बताए गए कुछ सरल उपाय कर सकते हैं.

  • नहाने वाले पानी में थोडा सा चंदन पाउडर डालकर स्नान करने से राहू और केतु के दोष से मुक्ति मिलती हैं.
  • नवरात्रि के दिनों में माता दुर्गा की पूजा के साथ भगवान शंकर और हनुमानजी की पूजा अर्चना करने से राहू और केतु के दोष से मुक्ति मिलती हैं.
  • नवरात्रि के नौ दिन दुर्गा माता का पाठ दुर्गा सप्त्शी का पाठ करने से राहू और केतु के दोष से छुटकारा मिलता हैं.
  • किसी गरीब कन्या के विवाह में गुप्त दान करने से राहू और केतु के दोष से मुक्ति मिलती हैं.
  • ॐ नमो भगवते वासुदेवाय नम: मंत्र का जाप रोजाना 108 बार करने से राहू और केतु के दोष से मुक्ति मिलती हैं.

राहू की स्थिति सही नही होने पर क्या हो सकता है

अगर किसी जातक की कुंडली में राहू की स्थिति सही नही हैं. तो उसे निम्नलिखित समस्याओ का सामना करना पड़ सकता हैं:

  • पेट से जुडी बीमारी
  • पेट में गैस बनना
  • बाल झड़ने की समस्या उत्पन्न होना
  • नाख़ून टूटने लगना
  • शरीर में खून की कमी उत्पन्न होना
  • बवासीर जैसी भयंकर बीमारी होना

FAQs (अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न)

राहु केतु को शांत करने के लिए कौन सा रत्न पहनना चाहिए?

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार राहू और केतु को शांत करने के लिए गोमेद रत्न पहनना चाहिए. आप गोमेद रत्न शनिवार के दिन पहन सकते हैं. क्योंकि इस दिन गोमेद रत्न पहनना शुभ माना जाता हैं.

राहु अशुभ कब होता है?

राहू अशुभ होने पर जातक को लक्षण दिखाई देते हैं. जो कुछ इस प्रकार हैं.

  • बुरे सपने आना
  • घबराहट होना
  • नींद नही आने की समस्या होना
  • परिवार के सदस्यों के बीच झगड़े और मनमुटाव उत्पन्न होना
  • घर में पालतू जानवर या पक्षी की मृत्यु होना
  • नाख़ून टूटने लगना
  • शरीर में कमजोरी उत्पन्न होना
  • जीवन से डर लगना
  • उत्साह में कमी आना
  • डिप्रेशन की समस्या पैदा होना

राहु दोष कितने समय तक रहता है?

किसी जातक की कुंडली में राहू दोष लगने के पश्चात वह कम से कम जातक की कुंडली में 18 वर्ष तक रहता हैं. इसके बाद राहू दोष अपने आप उतर जाता हैं.

राहु के लिए कौन सा दिन अच्छा है?

राहू के लिए चतुर्थी, अष्टमी, पूर्णिमा, सूर्य ग्रहण, चन्द्र ग्रहण यह सभी दिन अच्छे माने जाते हैं. इन दिनों में आप राहू को प्रसन्न करने के उपाय कर सकते हैं.

rahu-ketu-aur-shani-ko-prasnna-karne-ke-khas-upay (3)

 

निष्कर्ष

दोस्तों आज हमने आपको इस आर्टिकल के माध्यम से राहु-केतु और शनि को प्रसन्न करने के खास उपाय बताए है. इसके अलावा इस टॉपिक से जुडी अन्य और भी जानकारी प्रदान की हैं.

हम उम्मीद करते है की आज का हमारा यह आर्टिकल आपके लिए उपयोगी साबित हुआ होगा. अगर उपयोगी साबित हुआ हैं. तो आगे जरुर शेयर करे. ताकि अन्य लोगो तक भी यह महत्वपूर्ण जानकारी पहुंच सके.

दोस्तों हम आशा करते है की आपको हमारा राहु-केतु और शनि को प्रसन्न करने के खास उपाय – 4 सबसे आश्चर्यजनक रिजल्ट देने वाले उपाय आर्टिकल अच्छा लगा होगा. धन्यवाद

हनुमान जी को प्रसन्न करने के लिए राम मंत्र – 5 सबसे शक्तिशाली मंत्र

पत्नी पति के बिना कितने दिन रह सकती है / पत्नी मायके क्यों जाती है 

2 दिन के लिए घूमने की जगह खोजो ऐसे

Shailesh Nagar

Leave a Comment