पशुओं के घाव में कीड़े पड़ने की दवा, अंग्रेजी दवा तथा घरेलू दवा

पशुओं के घाव में कीड़े पड़ने की दवा, अंग्रेजी दवा तथा घरेलू दवा – कई बार हम देखते है की पशुओं को किसी चोट की वजह से घाव लग जाता हैं. पशुओं में किसी चोट की वजह से घाव होना एक सामान्य बात हैं. लेकिन कई बार घाव में कीड़े पड़ जाते हैं. इस वजह से पशुओं के ऐसे घाव ठीक होने में काफी लंबा समय लगता हैं. और ऐसे कीड़े वाले घाव की वजह से पशुओं को असहनीय दर्द का भी सामना करना पड़ता हैं.

अगर पशुओं में कीड़े पड़ने पर जल्दी इलाज करवाया न जाए. तो यह घाव अधिक गहरे और दर्दनाक बन जाते हैं.

pashuo-ke-ghav-me-kide-padne-ki-dwa-angreji-garelu (2)

दोस्तों आज हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से पशुओं के घाव में कीड़े पड़ने की दवा बताने वाले हैं. इसके अलावा इस टॉपिक से जुडी अन्य और भी जानकारी प्रदान करने वाले हैं. तो यह सभी महत्वपूर्ण जानकारी पाने के लिए आज का हमारा यह आर्टिकल अंत तक जरुर पढ़े.

तो आइये हम आपको इस बारे में संपूर्ण जानकारी प्रदान करते हैं.

पशुओं के घाव में कीड़े पड़ने की दवा / पशु के घाव सुखाने की अंग्रेजी दवा / पशु के घाव सुखाने की दवा

पशुओं के घाव में कीड़े पड़ने की सबसे बेहतरीन दवाई के बारे में हमने नीचे जानकारी प्रदान की हैं.

  • एंटीबायोटिक इंजेक्शन और बोलूस
  • एंटी इन्फलामेंट्री और एनाल्गेसिक इंजेक्शन और बोलूस

यह दोनों दवाई पशुओं के घाव के कीड़े मारने की अंग्रेजी दवाई हैं. इस दवाई का उपयोग आपको किसी भी पशुचिकित्सक की देखरेख में करना चाहिए.

भांग छोड़ने के बाद के लक्षण – भांग छोड़ने के उपाय 

पशुओं के घाव में कीड़े पड़ने की घरेलू दवा

पशुओं के घाव में कीड़े पड़ने की कुछ घरेलू दवा हमने नीचे बताई हैं.

हल्दी

हल्दी पशुओं के घाव के कीड़े खत्म करने में मदद कर सकता हैं. इसलिए हल्दी और पानी से लेप बनाकर पशुओं के घाव पर लगाने से पशुओं के घाव के कीड़े खत्म हो जाते हैं.

गुड और तारपीन तेल

पशुओं के घाव पर गुड और तारपीन तेल को रुई में लपेटकर लगाने से पशुओं के घाव के कीड़े खत्म हो जाते हैं.

सीताफल के बीज

पशुओं के घाव में लगे कीड़े को खत्म करने के लिए सीताफल के बीज काफी फायदेमंद माना जाता हैं. सीताफल के बीज को अच्छे से पीसकर उसका लेप बनाकर घाव वाली जगह पर लगाने से पशुओं के घाव के कीड़े तुरंत ही समाप्त हो जाते हैं.

अजवाइन कब खाना चाहिए / अजवाइन खाने का तरीका

बरगद की छाल

पशुओं के घाव के कीड़े खत्म करने के लिए बरगद की छाल काफी लाभदायी मानी जाती हैं. इसके लिए आपको बरगद की छाल का काढ़ा बनाकर पशुओं के घाव पर लगाना चाहिए. इससे घाव से आने वाली बदबू और घाव के कीड़े खत्म हो जाते हैं.

हिंग और निम

पशुओं के घाव के कीड़े खत्म करने के लिए हिंग और निम का लेप भी काफी फायदेमंद माना जाता हैं. इसके लिए आपको 50 ग्राम जैसी हिंग लेकर उसमें निम के पत्ते पीस लेने हैं. अब इस लेप को पशुओं के घाव वाली जगह पर लगाने से तुरंत ही घाव में पड़े कीड़े खत्म हो जाते हैं. इससे घाव से आने वाली बदबू के साथ पशुओं को होने वाला दर्द भी कम होता हैं.

सरसों का तेल

अगर आप पशुओं के घाव के कीड़े आसान तरीके से मारना चाहते हैं. तो आप सरसों के तेल का इस्तेमाल कर सकते हैं. इसके लिए आपको थोडा सा सरसों का तेल लेकर घाव वाली जगह पर लगाना हैं. इससे पशुओं के घाव के कीड़े जल्दी खत्म हो जाते हैं.

हाथ के नाख़ून पर सफ़ेद निशान का मतलब होता है 

पुदीना के पत्ते

पशुओं के घाव के कीड़े मारने के लिए पुदीना के पत्ते काफी फायदेमंद होते हैं. इसके लिए आपको पुदीना के पत्ते लेकर अच्छे से पीस लेने हैं. अब इसका लेप बनाकर पशुओं के घाव पर लगाना हैं. इससे पशुओं के घाव के कीड़े जल्दी ही खत्म हो जाते हैं.

करौंदे की जड़

करौंदे की जड़ में घाव के कीड़े मारने वाले पोषक तत्व पाए जाते हैं. इसलिए करौंदे की जड़ पशुओं के घाव के कीड़े मारने में काफी फायदेमंद होता हैं. आपको करौंदे की जड़ को अच्छे से पीसकर पतला लेप बनाकर पशुओं के घाव वाली जगह पर लगाना हैं. इससे घाव से आने वाली बदबू दूर होती हैं. और घाव में पड़े कीड़े तुरंत ही बाहर निकल जाते हैं.

pashuo-ke-ghav-me-kide-padne-ki-dwa-angreji-garelu (3)

पशुओं में घाव होने के कारण

पशुओं में घाव होने के काफी सारे कारण हो सकते हैं. जिसमे से कुछ मुख्य कारण के बारे में हमने नीचे जानकारी प्रदान की हैं.

  • पशुओं का आपस में झगड़ना
  • काटेदार तार और औजार लगना
  • आवारा कुत्तो का पशुओं को काट खाना
  • कई बार दुधारी पशुओं का दूध निकालते समय थन में चोंट लगना
  • पशुओ का सींग मारना

पशुओं के घाव का इलाज

अगर पशुओं को घाव हो जाता हैं. तो प्राथमिक चिकत्सा में कुछ इलाज कर सकते हैं. जिसके बारे में हमने नीचे जानकारी प्रदान की हैं.

  • अगर पशुओं को घाव लगता हैं. तो सबसे पहले तो घाव के आसपास के बाल काट दीजिये. इससे घाव में इन्फेक्शन होने से बचा जा सकता हैं.
  • कई बार घाव किसी नुकीली वस्तु से पड़ जाता हैं. ऐसे में घाव के आसपास के बाल काटकर देखना चाहिए की कोई नुकीली वस्तु फंसी हुई तो नहीं हैं. अगर घाव में कोई नुकीली वस्तु फंसी हुई हैं. तो ऐसे में आपको नुकीली वस्तु निकाल देनी चाहिए.
  • घाव लगने के बाद घाव में इन्फेक्शन ना लगे. इसलिए घाव को जीवाणु रोधक दवाई जैसे की पोटेशियम आदि से अच्छे धो लेना चाहिए.
  • अगर घाव गहरा है या फिर घाव से खून बह रहा है. तो ऐसी स्थिति में आपको घाव पर पट्टी बाँध देनी चाहिए. इससे खून बहने से रुक जाता हैं.
  • यदि घाव में कीड़े पड़ गए हैं. तो आपको जीवाणु रोधक क्रीम या तारपीन का तेल लगाकर घाव को ठीक करना चाहिए.
  • अगर में घाव में मवाद बन रही हैं. तो मवाद को अच्छे से साफ़ कर ले. इससे घाव जल्दी भरने में मदद मिलती हैं.

पशुओं के घाव में कीड़े पड़ने पर क्या करे

पशुओ के घाव में कीड़े पड़ने पर कुछ बातो का ध्यान रखे. जैसे की

  • घाव वाली जगह पर मक्खियाँ ना बैठे इसका ध्यान रखे.
  • अगर घाव में कीड़े पड़ गए हैं. तो फिनाइल का उपयोग करके कीड़ो का निकाल करे.
  • फिनाइल डालने से घाव में मौजूद कीड़े बाहर आ जाते हैं.
  • घाव अधिक गहरा हैं. तो पट्टी चिपकाकर घाव को सही करे.
  • अगर घाव लगने के बाद आप इन सभी बातो का ध्यान रखते हैं. तो घाव जल्दी सुखकर तैयार हो जाता हैं.

pashuo-ke-ghav-me-kide-padne-ki-dwa-angreji-garelu (1)

मूल शांति पूजन सामग्री लिस्ट इन हिंदी / मूल नक्षत्र कौन कौन से हैं / मूल नक्षत्र कैसे जाने

निष्कर्ष

दोस्तों आज हमने आपको इस आर्टिकल के माध्यम से पशुओं के घाव में कीड़े पड़ने की दवा बताइ है. इसके अलावा इस टॉपिक से जुडी अन्य और भी जानकारी प्रदान की हैं.

हम उम्मीद करते है की आज का हमारा यह आर्टिकल आपके लिए उपयोगी साबित हुआ होगा. अगर उपयोगी साबित हुआ हैं. तो आगे जरुर शेयर करे. ताकि अन्य लोगो तक भी यह महत्वपूर्ण जानकारी पहुंच सके.

दोस्तों हम आशा करते है की आपको हमारा यह पशुओं के घाव में कीड़े पड़ने की दवा, अंग्रेजी दवा तथा घरेलू दवा आर्टिकल अच्छा लगा होगा. धन्यवाद

2 दिन के लिए घूमने की जगह खोजो ऐसे

Puri duniya main kitne log hain | पूरी दुनिया में कितने लोग रहते हैं

साइलो किसे कहते है हिंदी में बताइए उत्तर दीजिए

Shailesh Nagar

3 thoughts on “पशुओं के घाव में कीड़े पड़ने की दवा, अंग्रेजी दवा तथा घरेलू दवा”

Leave a Comment