पंचकर्म कितने दिन का होता है – पंचकर्म के प्रकार और फायदे

पंचकर्म कितने दिन का होता हैपंचकर्म के प्रकार और फायदे – आयुर्वेद में पंचकर्म सबसे पुरानी पद्धति मानी जाती हैं. आज के समय में भी पंचकर्म को बहुत ही कारगर और प्रभावशाली पद्धति माना जाता हैं. ऐसा माना जाता है की पंचकर्म के माध्यम से पुरानी से पुरानी और जटिल से जटिल असाध्य बीमारी को भी ठीक किया जा सकता हैं.

Panchkarm-kitne-din-ka-hota-h-prakar-fayde (1)

हालांकि पंचकर्म की पद्धति थोड़ी लंबी होती हैं. लेकिन यह रोग को जडमूल से ठीक करने में सक्षम होती हैं. वैसे तो आज के समय में भी काफी लोग पंचकर्म करवाना पसंद करते हैं. लेकिन पंचकर्म कितने दिनों का होता हैं. इस बारे में काफी कम लोगो को जानकारी होती हैं.

दोस्तों आज हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से बताने वाले है की पंचकर्म कितने दिन का होता है. इसके अलावा इस टॉपिक से जुडी अन्य और भी जानकारी प्रदान करने वाले हैं. तो यह सभी महत्वपूर्ण जानकारी पाने के लिए आज का हमारा यह आर्टिकल अंत तक जरुर पढ़े.

तो आइये हम आपको इस बारे में संपूर्ण जानकारी प्रदान करते हैं.

पंचकर्म कितने दिन का होता है

अगर सामान्य रूप से देखा जाए तो पंचकर्म करने की संपूर्ण प्रक्रिया 7 से 21 दिन तक की हो सकती हैं. लेकिन पंचकर्म प्रक्रिया मरीज के रोग और उसके प्रकार पर भी निर्भर करता हैं. क्योंकि हर एक रोग के लिए पंचकर्म किया जाता हैं. और सभी रोगों के लिए पंचकर्म की अवधि अलग अलग होती हैं.

इसके अलावा मरीज का रोग कितना गंभीर हैं. तथा मरीज की मानसिक और शारीरिक स्थिति कैसी हैं. इन सभी बातो पर भी पंचकर्म की अवधि निर्भर होती हैं.

मनुष्य में शुक्राणु का निर्माण कैसे होता है – शुक्राणु बढ़ाने के लिए क्या खाएं

पंचकर्म के प्रकार

पंचकर्म के मुख्य पांच प्रकार होते हैं. जिसके बारे में हमने नीचे जानकारी प्रदान की हैं.

वमन: पंचकर्म में वमन प्रक्रिया सबसे महत्वपूर्ण मानी जाती हैं. इस प्रक्रिया में मरीज को उलटी करवाई जाती हैं. जिससे मरीज के शरीर में मौजूद विषेले पदार्थ शरीर से निकल जाते हैं. वात और पित्त की समस्या में वमन प्रक्रिया से पंचकर्म करवाया जाता हैं.

विरेचन: पंचकर्म में विरेचन प्रक्रिया भी की जाती हैं. इस प्रक्रिया में मरीज को विशेष प्रकार की औषधि देकर मल मार्ग से विषेले पदार्थ का निकाल किया जाता हैं. आमतौर पर पेट से जुडी बीमारी जैसे की कब्ज, पित्त का विकार, एसिडिटी आदि की समस्या में विरेचन पंचकर्म किया जाता हैं. इसके अलावा त्वचा और स्नायु से जुडी बीमारी में भी विरेचन किया जाता हैं.

बस्ती: बस्ती भी पंचकर्म की ही एक प्रक्रिया मानी जाती हैं. इसमें मरीज के आंतो के माध्यम से उसके अंदरूनी अंगो का शुद्धिकरण किया जाता हैं. जब किसी को गर्भाशय तथा गुदा से जुडी कोई बीमारी होती हैं. तो ऐसी स्थिति में बस्ती प्रक्रिया से पंचकर्म किया जाता हैं.

नस्या: इस प्रक्रिया से पंचकर्म करने में नसों के माध्यम से मरीज के अंगो का शुद्धिकरण किया जाता हैं. वात तथा स्नायु संबंधित रोगों में नस्या किया जाता हैं.

रक्तमोक्षण: पंचकर्म की इस प्रक्रिया में शरीर के कुछ हिस्से से रक्त को निकाला जाता हैं. रक्त से जुडी समस्या के लिए रक्तमोक्षण किया जाता हैं.

Panchkarm-kitne-din-ka-hota-h-prakar-fayde (2)

दिन में कितनी रस्सी कूदने चाहिए – रस्सी कूदने का सही समय 

पंचकर्म चिकित्सा का खर्च

पंचकर्म चिकित्सा का खर्च अस्पताल और आयुर्वेदिक चिकत्सा केंद्र पर निर्भर करता हैं. की आप कौनसी जगह पंचकर्म करवा रहे हैं. सभी चिकित्सा केन्द्रों में इसका चार्ज अलग अलग हो सकता हैं.

इसके अलावा पंचकर्म का खर्चा पंचकर्म के प्रकार पर भी निर्भर करता हैं. सभी पंचकर्म के खर्च अलग अलग हो सकते हैं. लेकिन सामान्य रूप से देखा जाए. तो पंचकर्म का कम से कम 30 से 50 हजार का खर्चा हो सकता हैं. लेकिन काफी सरकारी आयुर्वेदिक केन्द्रों में यह खर्चा बहुत कम या ना के बराबर भी हो सकता हैं.

पंचकर्म के फायदे

पंचकर्म करवाने के काफी सारे फायदे हैं. जिसके बारे में हमने नीचे जानकारी प्रदान की हैं.

  • पंचकर्म से आपका पूरा शरीर शुद्ध हो जाता हैं. इससे आपके शरीर में मौजूद विषेले पदार्थ बाहर निकल जाते हैं. और आपको बीमारी से छुटकारा मिलता है.
  • पंचकर्म प्रक्रिया से हर एक बीमारी का इलाज होता हैं. इसलिए पंचकर्म करवाने से आपको बीमारी से छुटकारा मिलता हैं.
  • पंचकर्म करवाने से आप शरीरिक और मानसिक रूप से मजबूत बनते हैं. यह आपको शांति प्रदान करता हैं. और आपके दिमाग को संतुलित करता हैं.
  • पंचकर्म करवाने से आपके शरीर में रक्त संचार बढ़ता हैं. इससे आपके शरीर में ऊर्जा का प्रवाह बढ़ जाता हैं.
  • इससे आपको अनिद्रा की बीमारी से मुक्ति मिलती हैं. आपको अच्छी नींद आने लगती हैं.

Panchkarm-kitne-din-ka-hota-h-prakar-fayde (3)

हाथ के नाख़ून पर सफ़ेद निशान का मतलब होता है 

निष्कर्ष

दोस्तों आज हमने आपको इस आर्टिकल के माध्यम से बताया है पंचकर्म कितने दिन का होता है. इसके अलावा इस टॉपिक से जुडी अन्य और भी जानकारी प्रदान की हैं.

हम उम्मीद करते है की आज का हमारा यह आर्टिकल आपके लिए उपयोगी साबित हुआ होगा. अगर उपयोगी साबित हुआ हैं. तो आगे जरुर शेयर करे. ताकि अन्य लोगो तक भी यह महत्वपूर्ण जानकारी पहुंच सके.

दोस्तों हम आशा करते है की आपको हमारा यह पंचकर्म कितने दिन का होता हैपंचकर्म के प्रकार और फायदे आर्टिकल अच्छा लगा होगा. धन्यवाद

पेशाब का दूधिया सफेद रंग की उपस्थिति के कारण है – सम्पूर्ण जानकारी

प्रेगनेंसी में सीधा सोना चाहिए या नहीं – प्रेगनेंसी में क्या नहीं करना चाहिए

Shailesh Nagar

Leave a Comment