नियत तारीख के बाद प्रसव पीड़ा न होने के कारण – अनुभवी डॉक्टर से जाने

नियत तारीख के बाद प्रसव पीड़ा होने के कारणअनुभवी डॉक्टर से जाने – प्रेगनेंसी के दौरान किसी भी प्रेगनेंट महिला को एक नियत तारीख दी जाती है की उस दिन बच्चे की डिलीवरी होगी. लेकिन काफी मामलों में देखा गया है की नियत तारीख निकल जाने के बाद भी शिशु का जन्म नही होता हैं. ऐसा होना किसी भी महिला के लिए सामान्य नही माना जाता हैं.

अगर किसी महिला के साथ ऐसा होता है. तो इससे माँ और शिशु दोनों को खतरा हो सकता हैं. इसलिए ऐसे समय पर तुरंत ही डॉक्टर की राय लेना जरूरी हो जाता हैं.

वैसे तो नियत तारीख निकल जाने के बाद महिला में प्रसव पीड़ा शुरू हो जाती हैं. लेकिन काफी मामलों में देखा गया है की नियत तारीख निकल जाने के बाद भी काफी महिलाओ को प्रसव पीड़ा नही होती हैं.

Niyat-Tarikh-ke-bad-prasav-pida-n-hone-ke-karan (1)

नियत तारीख निकलने के बाद प्रसव पीड़ा नही होने के पीछे काफी सारे कारण हो सकते हैं. जिसमें से कुछ मुख्य कारण के बारे में हमने नीचे जानकारी प्रदान की हैं.

दोस्तों आज हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से नियत तारीख के बाद प्रसव पीड़ा होने के कारण बताने वाले हैं. इसके अलावा इस टॉपिक से जुडी अन्य और भी जानकारी प्रदान करने वाले हैं. तो यह सभी महत्वपूर्ण जानकारी पाने के लिए आज का हमारा यह आर्टिकल अंत तक जरुर पढ़े.

तो आइये हम आपको इस बारे में संपूर्ण जानकारी प्रदान करते हैं.

नियत तारीख के बाद प्रसव पीड़ा होने के कारण

नियत तारीख के बाद प्रसव पीड़ा नही होने के काफी सारे कारण हो सकते हैं. जिसमे से कुछ मुख्य कारण के बारे में हमने नीचे जानकारी प्रदान की हैं.

  • नियत तारीख के बाद प्रसव पीड़ा नही होने के पीछे सबसे पहले तो आपकी उम्र और आपके वजन को कारणरूप माना जाता हैं. अगर आप अधिक उम्र में माँ बन रही हैं. तथा आपका वजन अधिक हैं. तो इस कारण नियत तारीख के बाद प्रसव पीड़ा नही होती हैं.
  • अगर गर्भावस्था के दौरान आपको उच्च रक्तचाप और मधुमेह जैसी बीमारी हैं. तो ऐसी बीमारी के कारण भी आपको प्रसव पीड़ा नही होती हैं.
  • इसके अलावा गर्भ में शिशु का स्वास्थ्य और विकास भी प्रसव पीड़ा का कारण बन सकता हैं.
  • अगर आपकी नियत तारीख की गणना गलत की गई थी. तो यह भी प्रसव पीड़ा नही होने का कारण बन सकता हैं. कई बार काफी महिलाओ की नियत तारीख की गणना गलत हो जाती हैं. ऐसी स्थिति में प्रसव पीड़ा में डिले देखने को मिलती हैं.
  • अगर आपकी पहली गर्भावस्था ओवर ड्यू रही हैं. तो इस कारण भी आपको नियत तारीख के बाद प्रसव पीड़ा नही होती हैं.

Niyat-Tarikh-ke-bad-prasav-pida-n-hone-ke-karan (2)

जू मारने का साबुन क्या है – जुए मारने का रामबाण इलाज

नियत तारीख तक प्रसव पीड़ा ना हो तो क्या करे

जब डॉक्टर के द्वारा आपको नियत तारीख दी जाती हैं. और नियत तारीख तक आपको प्रसव पीड़ा नही होती हैं. तो ऐसे में डॉक्टर आपको कुछ दवाइयां और इंजेक्शन देकर प्रसव पीड़ा ला सकते हैं. लेकिन कुछ प्राकृतिक प्रक्रिया करके भी आप प्रसव पीड़ा को ला सकते हैं. जिसके बारे में हमने नीचे जानकारी प्रदान की हैं.

  • अगर नियत तारीख के आसपास भी आपको प्रसव पीड़ा नही होती हैं. तो ऐसे में आप संभोग का सहारा ले सकती हैं. अगर आप अपने पार्टनर के साथ शारीरिक संबंध मनाते हैं. तो इससे महिला उत्तेजित होती हैं. और इस कारण प्रसव पीड़ा शुरू हो जाती हैं.
  • प्रसव पीड़ा लाने के लिए आप स्तनों की मालिश कर सकते हैं. ऐसा माना जाता है की स्तनों की मालिश करने से स्तन उत्तेजित हो जाते हैं. और इस कारण कई बार प्रसव पीड़ा शुरू हो जाती हैं.
  • प्रसव पीड़ा लाने के लिए आपको थोडा टहलना चाहिए. हो सके तो आप थोडा वाल्किंग करे. इससे आपको प्रसव पीड़ा उत्पन्न हो सकती हैं.
  • प्रसव पीड़ा लाने के लिए थोड़ी शारीरिक मेहनत की जरूरत पड़ती हैं. इसलिए प्रसव पीड़ा लाने के लिए थोडा मेहनत वाला कार्य करे. लेकिन इस दौरान अपने गर्भस्थ शिशु का भी ख्याल रखे.
  • नियत तारीख पर प्रसव पीड़ा नही होती हैं. तो आप किसी अच्छे डॉक्टर से संपर्क करे. और उनसे इलाज करवाए.

Niyat-Tarikh-ke-bad-prasav-pida-n-hone-ke-karan (3)

नीचे के बाल साफ करने के साबुन का नाम बताए – 3 सबसे शानदार साबुन जाने

निष्कर्ष

दोस्तों आज हमने आपको इस आर्टिकल के माध्यम से नियत तारीख के बाद प्रसव पीड़ा होने के कारण बताए है. इसके अलावा इस टॉपिक से जुडी अन्य और भी जानकारी प्रदान की हैं.

हम उम्मीद करते है की आज का हमारा यह आर्टिकल आपके लिए उपयोगी साबित हुआ होगा. अगर उपयोगी साबित हुआ हैं. तो आगे जरुर शेयर करे. ताकि अन्य लोगो तक भी यह महत्वपूर्ण जानकारी पहुंच सके.

दोस्तों हम आशा करते है की आपको हमारा यह नियत तारीख के बाद प्रसव पीड़ा होने के कारणअनुभवी डॉक्टर से जाने आर्टिकल अच्छा लगा होगा. धन्यवाद

किसी का मोबाइल बिना छुए कैसे हैक करें – स्टेप By स्टेप जानकारी जाने

हाथ के नाख़ून पर सफ़ेद निशान का मतलब होता है 

मनुष्य में शुक्राणु का निर्माण कैसे होता है – शुक्राणु बढ़ाने के लिए क्या खाएं

Shailesh Nagar

Leave a Comment