धारा 9 के कितने दिनों तक चलता है / सेक्शन 9 के फायदे और नुकसान

धारा 9 के कितने दिनों तक चलता है / सेक्शन 9 के फायदे और नुकसान – हिन्दू धर्म में विवाह को एक संस्कार माना जाता हैं. जब महिला और पुरुष विवाह कर लेते हैं. तो उनको एक साथ रहने की सहमती मिल जाती हैं. लेकिन कुछ दंपति में विवाह के बाद झगड़े आदि उत्पन्न हो जाते हैं. और ऐसे में दोनों ही एक दुसरे से अलग अलग रहना शुरू कर देते हैं.

आपने कई बार देखा होगा की पति अपनी पत्नी से अलग रह रहा हैं. या फिर पत्नी अपने पति से अलग रह रही हैं. ऐसे में अगर पत्नी चाहे तो अपने पति के खिलाफ केस दर्ज करके पति के साथ रह सकती हैं. और उसी प्रकार अगर पति चाहे तो अपनी पत्नी के खिलाफ केस दर्ज करवाकर पत्नी के साथ रह सकता हैं.

Dhara-9-ke-kitne-dino-tak-chalta-h (1)

विवाह के बाद ऐसी समस्या हो जाने के पश्चात वैवाहिक अधिकार पाने के लिए पति या पत्नी दोनों ही याचिका दर्ज करवा सकते हैं. जिसमे धारा 9 के अंतर्गत फैसला सुनाया जाता है.

दोस्तों आज हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से बताने वाले है की धारा 9 के कितने दिनों तक चलता है. इसके अलावा इस टॉपिक से जुडी अन्य और भी जानकारी प्रदान करने वाले हैं. तो यह सभी महत्वपूर्ण जानकारी पाने के लिए आज का हमारा यह आर्टिकल अंत तक जरुर पढ़े.

धारा 9 के कितने दिनों तक चलता है

अगर पत्नी अपने पति के खिलाफ धारा 9 के अंतर्गत केस दर्ज करवाती हैं. या फिर पति अपने पत्नी के खिलाफ धारा 9 के अंतर्गत केस दर्ज करवाता हैं. तो ऐसे केस धारा 9 के केस को खत्म होने में 3 से 5 साल तक का समय लग जाता हैं.

अगर धारा 9 के केस के साथ आपका तलाक का केस भी चल रहा हैं. इसके अलावा पत्नी ने अपने पति के खिलाफ धारा 9 का केस दर्ज करवाया हैं. और पत्नी अपने पति को साथ में लाने की कोशिश कर रही हैं.

लेकिन पति इस बात से इनकार कर रहा हैं. वह पत्नी के साथ जाना नही नही चाहता हैं. या फिर उल्टा तलाक के केस दर्ज करवाता हैं. तो ऐसे में पत्नी को धारा 9 के केस में सफलता मिलने में 5 साल से भी अधिक दिनों का समय लग सकता हैं.

ऐसा ही पति के लिए भी हो सकता हैं. जैसे की पति अपनी पत्नी को अपने पास लाने के लिए धारा 9 के तहत केस द्दर्ज करवाता हैं. लेकिन पत्नी अपने पति के साथ जाने से मना कर रही हैं. और उल्टा पति के खिलाफ तलाक का केस दर्ज करवा रही हैं. तो इस स्थिति में भी कई बार केस 5 साल से अधिक समय तक चल जाता हैं.

Dhara-9-ke-kitne-dino-tak-chalta-h (2)

हाई कोर्ट से जमानत कैसे मिलती है / हाई कोर्ट से जमानत कितने दिन में होती है 

धारा 9 के नियम क्या है                 

अगर कोई पति अपनी पत्नी से अलग रह रहा हैं. या फिर कोई पत्नी अपनी पति से अलग रह रही हैं. तो ऐसे में पति या पत्नी दोनों ही एक दुसरे के खिलाफ धारा 9 के अंतर्गत केस दर्ज करवा सकते हैं. यानी की अगर पत्नी चाहे तो अपने पति के खिलाफ ऐसा केस दर्ज करवा सकती है की वह उसके पति के साथ रहना चाहती हैं.

वही अगर पति चाहते है की पत्नी उसके साथ रहे तो ऐसे में पति भी अपने पत्नी के खिलाफ केस दर्ज करवा सकता हैं. और पत्नी को अपने साथ रहने के लिए धारा 9  के अंतर्गत केस दर्ज करवा सकता हैं. इस धारा 9 का मुख्य उदेश्य यह है की पति पत्नी के बीच टूटती हुई शादी को बचाया जा सके.

मानहानि का केस कब कर सकते हैं – मानहानि केस क्या होता है 

सेक्शन 9 के फायदे और नुकसान

सेक्शन 9 के कुछ फायदे और नुकसान भी हैं. जिसके बारे में हमने नीचे जानकारी प्रदान की हैं.

सेक्शन 9 के फायदे

  • अगर आप विरोधी पार्टी के खिलाफ सेक्शन 9 का केस दर्ज करवाते हैं. तो यह माना जाता है की आप विरोधी पार्टी से प्यार करते हैं. और उसको आपके साथ रहने के लिए आमंत्रण दे रहे हैं. अगर विरोधी पार्टी ने आप पर तलाक के केस दर्ज किया हैं. तो ऐसे में आप सेक्शन 9 केस दर्ज करवाकर फायदा ले सकते हैं.
  • अगर सामने वाली पार्टी ने आपके खिलाफ तलाक के केस दर्ज करवाया हैं. और आप तलाक देना नही चाहते हैं. आप आपके पार्टनर के साथ रहना चाहते हैं. तो ऐसे में आप सेक्शन 9 का सहारा ले सकते हैं.
  • अगर तलाक के मामले में आपका केस कमजोर हो रहा हैं. और आप हारने के बिल्कुल करीब हैं. तो ऐसे में आप अपने केस को स्ट्रोंग बनाने के लिए सेक्शन 9 का सहारा ले सकते हैं.

सेक्शन 9 के नुकसान

  • अगर आप सेक्शन 9 का केस दर्ज करवाते हैं. तो यह केस बहुत ही लंबा चल सकता हैं. ऐसे केस न्यायालय में 3 से 5 साल तक चल सकते हैं. ऐसे में आपको इतने वर्ष तक कोर्ट के चक्कर काटने पड़ते हैं. इसमें आपके पैसे और समय दोनों की बर्बादी होती हैं.
  • अगर सेक्शन 9 के केस दर्ज करवाने के बाद साथ साथ तलाक का केस भी चल रहा हैं. तो इसमें आपको और अधिक नुकसान हो सकता हैं. ऐसे केस को खत्म होने में काफी अधिक समय लग सकता हैं.
  • अगर आपकी विरोधी पार्टी ने आपके खिलाफ सेक्शन 9 का केस दर्ज किया हैं. और आप अपने विरोधी बात नही मानते हैं. तो ऐसे में आप और अधिक परेशानी में फंस सकते हैं. ऐसे में जज आपके खिलाफ उल्टा आदेश भी कर सकते हैं.

Dhara-9-ke-kitne-dino-tak-chalta-h (3)

स्टॉक मार्केट में निवेश करने से पहले किसी को क्या सावधानी रखनी चाहिए?

निष्कर्ष

दोस्तों आज हमने आपको इस आर्टिकल के माध्यम से बताया है धारा 9 के कितने दिनों तक चलता है. इसके अलावा इस टॉपिक से जुडी अन्य और भी जानकारी प्रदान की हैं.

हम उम्मीद करते है की आज का हमारा यह आर्टिकल आपके लिए उपयोगी साबित हुआ होगा. अगर उपयोगी साबित हुआ हैं. तो आगे जरुर शेयर करे. ताकि अन्य लोगो तक भी यह महत्वपूर्ण जानकारी पहुंच सके.

दोस्तों हम आशा करते है की आपको हमारा धारा 9 के कितने दिनों तक चलता है / सेक्शन 9 के फायदे और नुकसान आर्टिकल अच्छा लगा होगा. धन्यवाद

फ्रिज में गैस खत्म होने के लक्षण – फ्रिज ठंडा नहीं होने का कारण

2 दिन के लिए घूमने की जगह खोजो ऐसे

पत्नी पति के बिना कितने दिन रह सकती है / पत्नी मायके क्यों जाती है 

 

Shailesh Nagar

Leave a Comment