धान के लिए कीटनाशक दवा की जानकारी / धान में लगने वाले रोग

धान के लिए कीटनाशक दवा की जानकारी / धान में लगने वाले रोग – धान का नुकसान होना किसानों के लिए सबसे बड़ा चिंता का विषय माना जाता हैं. धान में किट पड़ जाने की वजह से काफी बार किसानों का आधे से ज्यादा धान तो ऐसे ही बर्बाद हो जाता हैं. और इस वजह से किसानों को काफी भारी मात्रा में नुकसान उठाना पड़ता हैं.

अगर कीट की वजह से धान में नुकसान हो रहा हैं. तो आज हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से कुछ ऐसी कीटनाशक दवाई के बारे में बताएगे. जिसके उपयोग से धान का नुकसान नहीं होगा.

Dhan-ke-lie-kitnashak-dwa-ki-jankari-lagne-wale-rog (1)

दोस्तों आज हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से धान के लिए कीटनाशक दवा बताने वाले हैं. इसके अलावा इस टॉपिक से जुडी अन्य और भी जानकारी प्रदान करने वाले हैं. तो यह सभी महत्वपूर्ण जानकारी पाने के लिए आज का हमारा यह आर्टिकल अंत तक जरुर पढ़े.

तो आइये हम आपको इस बारे में संपूर्ण जानकारी प्रदान करते हैं.

धान के लिए कीटनाशक दवा

धान के लिए कुछ कीटनाशक दवा के बारे में हमने नीचे जानकारी प्रदान की हैं.

धान के लिए कीटनाशक हिबिकी 500 मिली

अगर आप कीट से परेशान हो गए हैं. कीट की वजह से आपका धान काफी बर्बाद हो रहा हैं. तो आप हिबिकी 500 मिली कीटनाशक दवा का उपयोग कर सकते हैं. यह दवाई कीटनाशक के लिए काफी अच्छी मानी जाती हैं. और आपकी फसल को बर्बाद होने से बचाती हैं.

यह इफ्को कंपनी की बहुत ही शानदार प्रोडक्ट हैं. अगर आप इसे खरीदना चाहते हैं. तो इसका 500 मिली का पैक आपको 370 रूपये के करीब आसानी से मिल जाएगा. यह कीटनाशक आपको आसानी से आपके आसपास की कीटनाशक दवाई केंद्र से मिल जाएगा. इसके अलावा ऑनलाइन माध्यम से भी आपको यह कीटनाशक आसानी से मिल जाएगा.

Dhan-ke-lie-kitnashak-dwa-ki-jankari-lagne-wale-rog (2)

पशुओं के घाव में कीड़े पड़ने की दवा, अंग्रेजी दवा तथा घरेलू दवा 

धान के लिए कीटनाशक कोमुगी पायरीप्रोक्सीफेन

धान को कीट से बचाने के लिए कोमुगी पायरीप्रोक्सीफेन नामक दवाई भी काफी फायदेमंद होती हैं. कई बार धान पर सफेद मक्खी या माहू जैसे कीट आकर धान को खराब करने लगते हैं.

ऐसे कीट का नाश करने के लिए कोमुगी पायरीप्रोक्सीफेन दवाई काफी अच्छी मानी जाती हैं. इसके उपयोग करने की विधि भी काफी सरल हैं. इसलिए आप आसानी से इसका उपयोग कर सकते हैं.

अगर आप कोमुगी पायरीप्रोक्सीफेन नामक कीटनाशक दवाई खरीदना चाहते हैं. तो आपके आसपास के किसी भी कीटनाशक केंद्र से आसानी से मिल जाएगी. इसके अलावा यह दवाई ऑनलाइन माध्यम से भी आसानी से मिल जाती हैं.

धान को कीट से बचाने के लिए आप इन दोनों दवा में से किसी भी एक दवा का उपयोग कर सकते हैं. यह दोनों ही दवाई कीटनाशक के लिए काफी अच्छी मानी जाती हैं.

भांग छोड़ने के बाद के लक्षण – भांग छोड़ने के उपाय 

धान में लगने वाले रोग

धान में लगने वाले कुछ रोगों के बारे में हमने नीचे जानकारी प्रदान की हैं.

  • धान में सबसे अधिक झोंका रोग लगता हैं. इस रोग से काफी अधिक मात्रा में धान की बर्बादी होती हैं. यह रोग फफूंदी के फैलने से धान में उत्पन्न होता हैं. अगर समय रहने पर धान को झोंक रोग से ना बचाया जाए तो आपकी पूरी फसल बर्बाद हो जाती हैं.
  • धान में दूसरा सबसे अधिक झुलसा रोग लगता हैं. यह भी धान को पूर्ण से बर्बाद करने वाला होता हैं. ओराइजी नामक जीवाणु के कारण यह रोग धान में उत्पन्न होता हैं. अगर समय रहते इस रोग को धान से बचाया नहीं जाता हैं. तो यह रोग आपके धान को पूर्ण रूप से बर्बाद करके छोड़ता हैं.
  • धान में लगने वाला भूरा धब्बा रोग भी काफी खतरनाक माना जाता हैं. यह रोग भी धान में फफूंदी के कारण फैलता हैं. इस रोग से भी धान को जल्दी बचाने की कोशिश करनी चाहिए. नहीं तो यह रोग भी आपके धान को पूरा बर्बाद कर सकता हैं.

Dhan-ke-lie-kitnashak-dwa-ki-jankari-lagne-wale-rog (3)

अजवाइन कब खाना चाहिए / अजवाइन खाने का तरीका

निष्कर्ष            

दोस्तों आज हमने आपको इस आर्टिकल के माध्यम से धान के लिए कीटनाशक दवा बताई है. इसके अलावा इस टॉपिक से जुडी अन्य और भी जानकारी प्रदान की हैं.

हम उम्मीद करते है की आज का हमारा यह आर्टिकल आपके लिए उपयोगी साबित हुआ होगा. अगर उपयोगी साबित हुआ हैं. तो आगे जरुर शेयर करे. ताकि अन्य लोगो तक भी यह महत्वपूर्ण जानकारी पहुंच सके.

दोस्तों हम आशा करते है की आपको हमारा यह धान के लिए कीटनाशक दवा की जानकारी / धान में लगने वाले रोग आर्टिकल अच्छा लगा होगा. धन्यवाद

2 दिन के लिए घूमने की जगह खोजो ऐसे

Puri duniya main kitne log hain | पूरी दुनिया में कितने लोग रहते हैं

साइलो किसे कहते है हिंदी में बताइए उत्तर दीजिए

Shailesh Nagar

Leave a Comment