दशमूलारिष्ट कब नहीं पीना चाहिए – दशमूलारिष्ट कितना और कैसे पीना चाहिए

दशमूलारिष्ट कब नहीं पीना चाहिएदशमूलारिष्ट कितना और कैसे पीना चाहिए – आप में से काफी लोगो ने दशमूलारिष्ट के बारे में सुना होगा. यह एक आयुर्वेदिक औषधि हैं. जिसका उपयोग महिलाएं डिलीवरी होने के बाद करती हैं. बच्चा होने के बाद महिला को शारीरिक थकान, गर्भाशय में सुजन, बुखार आना, भूख नही लगना आदि की समस्या का सामना करना पड़ता हैं.

ऐसे में दशमूलारिष्ट पीने से इन सभी समस्या से छुटकारा मिलता हैं. दशमूलारिष्ट पूर्ण रूप से आयुर्वेदिक होने के कारण इसके नुकसान ना के बराबर होते हैं. लेकिन फिर भी कुछ कंडीशन में दशमूलारिष्ट नही पीने की सलाह दी जाती हैं.

Dashamularisht-kab-nahi-pina-chahie (2)

दोस्तों आज हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से बताने वाले है की दशमूलारिष्ट कब नहीं पीना चाहिए. इसके अलावा इस टॉपिक से जुडी अन्य और भी जानकारी प्रदान करने वाले हैं. तो यह सभी महत्वपूर्ण जानकारी पाने के लिए आज का हमारा यह आर्टिकल अंत तक जरुर पढ़े.

तो आइये हम आपको इस बारे में संपूर्ण जानकारी प्रदान करते हैं.

दशमूलारिष्ट कब नहीं पीना चाहिए

कुछ ऐसी स्थितियां होती हैं. उस दौरान दशमूलारिष्ट नही पीना चाहिए. इसके बारे में हमने नीचे विस्तारपूर्वक जानकारी प्रदान की हैं.

  • अगर आप डायबिटीज के मरीज हैं. तो आपको दशमूलारिष्ट नही पीना चाहिए. क्योंकि दशमूलारिष्ट में द्राक्ष, शहद तथा गुड आदि जैसी चीज़े मिलाई जाती हैं. जो आपके शुगर लेवल को बढ़ा सकता हैं. इसके लिए अगर आप डायबिटीज के मरीज हैं. तो दशमूलारिष्ट नही पीना चाहिए. अगर आप इस कंडिशन में भी दशमूलारिष्ट पीना चाहते हैं. तो एक बार डॉक्टर की राय जरुर ले.
  • अगर आप पित्त से जुडी बीमारी से पीड़ित हैं. तो ऐसे में आपको दशमूलारिष्ट नही पीना चाहिए. पित्त से जुडी बीमारी में आपको एसिडिटी, पेट में जलन आदि जैसी समस्या हो सकती हैं. अगर आपको भी इस प्रकार की कोई समस्या हैं. तो ऐसे में आपको दशमूलारिष्ट नही पीनी चाहिए.
  • शराब या किसी भी अन्य नशीली वस्तु का सेवन करने के बाद आपको दशमूलारिष्ट नही पीनी चाहिए. अगर आप ऐसी नशीली वस्तु के सेवन के बाद दशमूलारिष्ट पीते हैं. तो यह आपके लिए हानिकारक हो सकता हैं.
  • बच्चो को कभी भी गलती से दशमूलारिष्ट नही पिलानी चाहिए. बच्चो के लिए यह औषधि नुकसानदायी मानी जाती हैं.
  • अगर आप अन्य किसी बीमारी के लिए दवाई ले रहे हैं. तो उस दवाई के साथ कभी भी दशमूलारिष्ट नही लेनी चाहिए. इसके अलावा आपकी अन्य किसी बीमारी की कोई अन्य दवाई चल रही हैं. तो एक बार डॉक्टर को पूछकर दशमूलारिष्ट लेनी चाहिए.

Dashamularisht-kab-nahi-pina-chahie (1)

हाथ के नाख़ून पर सफ़ेद निशान का मतलब होता है 

दशमूलारिष्ट कितना पीना चाहिए / दशमूलारिष्ट कैसे पीना चाहिए

दशमूलारिष्ट की खुराक के बारे में हमने नीचे जानकारी प्रदान की हैं.

  • किसी भी महिला की डिलीवरी के बाद 15ml दशमूलारिष्ट दिन में दो बार लेना चाहिए.
  • अगर महिला को अधिक कमजोरी लग रही हैं. या फिर अधिक थकान महसूस कर रही हैं. तो ऐसे में डिलीवरी के बाद महिला 30ml दशमूलारिष्ट दिन में दो बार ले सकती हैं. इससे अधिक मात्रा में दशमूलारिष्ट नही लेना चाहिए.
  • दशमूलारिष्ट हमेशा भोजन करने के बाद ही लेनी चाहिए.
  • अगर किसी को दशमूलारिष्ट का स्वाद कडवा लग रहा हैं. तो वह गुनगुने पानी के साथ दशमूलारिष्ट पी सकती हैं.
  • महिलाओं को दिन में दो बार 15 से 20 ml दशमूलारिष्ट पीना चाहिए. यानी की तीन से चार चम्मच भोजन के बाद लिया जा सकता हैं.
  • अगर आप दशमूलारिष्ट पीते हैं. तो आपने जितना दशमूलारिष्ट सिरप लिया हैं. उतनी मात्रा में पानी भी लेना हैं. यानी की समान मात्रा में पानी लेकर दशमूलारिष्ट पीना हैं.

मनुष्य में शुक्राणु का निर्माण कैसे होता है – शुक्राणु बढ़ाने के लिए क्या खाएं

दशमूलारिष्ट सिरप के फायदे हिंदी में

दशमूलारिष्ट सिरप के कुछ फायदे हिंदी में हमने नीचे बताये हैं.

  • महिला में डिलीवरी के बाद हुई थकान को दूर करता हैं.
  • महिला में डिलीवरी के बाद पैदा हुए शारीरिक दर्द को दूर करता हैं.
  • डिलीवरी के बाद आने वाले बुखार को दूर करता हैं.
  • महिला की डिलीवरी के बाद मासिक धर्म से जुडी परेशानी दूर करता हैं. अनियमित पीरियड को नियमित करता हैं.
  • महिला की कमजोरी को दूर करता हैं.
  • यह खून को बढाने में काम आता हैं.
  • डिलीवरी के बाद गर्भाशय की मांसपेशियां कमजोर हो जाती हैं. इसलिए गर्भाशय की मांसपेशियों को मजबूर करता हैं.
  • गर्भाशय से विषयुक्त पदार्थ को निकालने में मदद करता हैं.
  • पेट से जुडी परेशानी दूर करता हैं. जैसे की अपच, कब्ज, गैस आदि की समस्या में फायदा करता हैं.

Dashamularisht-kab-nahi-pina-chahie (3)

निष्कर्ष

दोस्तों आज हमने आपको इस आर्टिकल के माध्यम से बताया है दशमूलारिष्ट कब नहीं पीना चाहिए. इसके अलावा इस टॉपिक से जुडी अन्य और भी जानकारी प्रदान की हैं.

हम उम्मीद करते है की आज का हमारा यह आर्टिकल आपके लिए उपयोगी साबित हुआ होगा. अगर उपयोगी साबित हुआ हैं. तो आगे जरुर शेयर करे. ताकि अन्य लोगो तक भी यह महत्वपूर्ण जानकारी पहुंच सके.

दोस्तों हम आशा करते है की आपको हमारा यह दशमूलारिष्ट कब नहीं पीना चाहिए दशमूलारिष्ट कितना और कैसे पीना चाहिए आर्टिकल अच्छा लगा होगा. धन्यवाद

दिन में कितनी रस्सी कूदने चाहिए – रस्सी कूदने का सही समय 

बार-बार खड़ा क्यों होता है – 5 सबसे प्रमुख कारण जाने

जन्मदिन पार्टी के तरीके खोजो – 8 सबसे नए और लेटेस्ट तरीके

Leave a Comment