चिरायता पीने का तरीका तथा फायदे – सम्पूर्ण जानकरी

चिरायता पीने का तरीका तथा फायदेसम्पूर्ण जानकरी – चिरायता एक प्राकृतिक आयुर्वेदिक जड़ी बुट्टी माना जाता हैं. जिसके काफी सारे फायदे हैं. ऐसा माना जाता है की पित्तशामक बीमारी को खत्म करने के लिए चिरायता काफी अच्छा होता हैं. इसके अलावा यह हमारे शरीर को इम्युनिटी देने का काम भी करता हैं.

हालांकि यह स्वाद में थोडा कडवा होता हैं. लेकिन काफी सारी बीमारियों में इसका लाभ मिलता हैं. इसलिए काफी लोग चिरायता पीना पसंद करते हैं. लेकिन जब तक आप चिरायता सही तरीके से नही पीते हैं. तब तक आपको इसका अच्छे से लाभ नही मिलता हैं. इसलिए चिरायता पीने का सही तरीका आज हम इस आर्टिकल के माध्यम से जानेगे.

Chirayta-pine-ka-tarika-fayde (1)

दोस्तों आज हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से चिरायता पीने का तरीका बताने वाले हैं. इसके अलावा इस टॉपिक से जुडी अन्य और भी जानकारी प्रदान करने वाले हैं. तो यह सभी महत्वपूर्ण जानकारी पाने के लिए आज का हमारा यह आर्टिकल अंत तक जरुर पढ़े.

तो आइये हम आपको इस बारे में संपूर्ण जानकारी प्रदान करते हैं.

चिरायता पीने का तरीका

वैसे तो चिरायता काफी सारी बीमारियों में फायदा प्रदान करता हैं. इसलिए बीमारी के अनुसार चिरायता पीना आपके लिए काफी अच्छा माना जाता हैं. अगर आप चिरायता पीते हैं. तो आप चाय या फिर दूध में चिरायता मिलाकर पी सकते हैं. लेकिन अगर आप चाय या दूध का सेवन नही करते हैं. तो आप पानी के साथ भी चिरायता पी सकते हैं.

अगर आप चाय, दूध या पानी के साथ चिरायता पीते हैं. तो आप उबालकर या फिर गुनगुने पानी के साथ चिरायता पी सकते हैं. यह एक विशेष प्रकार की आयुर्वेदिक जड़ी बुट्टी हैं. जो स्वाद में कडवी होती हैं. इसलिए अगर आप चाहे तो थोडा सा शहद मिलाकर भी चिरायता पी सकते हैं.

अगर आप किसी भी बीमारी के लिए चिरायता पी रहे हैं. तो एक कप पानी में चिरायता डालकर इतना उबाले की आधा कप पानी रह जाए. इसके बाद आप इस पानी को छानकर पी सकते हैं.

अगर आप चिरायता पीते हैं. तो आपको सुबह के समय चिरायता पीना चाहिए. तथा चिरायता पीने के बाद अन्य किसी भी और वस्तु का सेवन नही करना चाहिए. तो कुछ इस प्रकार से आप चिरायता पी सकते हैं.

Chirayta-pine-ka-tarika-fayde (2)

मनुष्य में शुक्राणु का निर्माण कैसे होता है – शुक्राणु बढ़ाने के लिए क्या खाएं

चिरायता पीने के फायदे

वैसे तो चिरायता पीने के काफी सारे फायदे हैं. लेकिन हमने नीचे कुछ मुख्य फायदों के बारे में जानकारी प्रदान की हैं.

वजन कम करने में फायदेमंद

अगर आप वजन कम करना चाहते हैं. तो आपको चिरायता पीना चाहिए. इससे आपके शरीर का मेटाबोलिज्म अधिक तेजी से बढ़ता हैं. जिससे आपके शरीर का वजन कम होता हैं. यह आपकी कब्ज की समस्या दूर करता हैं. इससे आपका पेट हमेशा ही साफ़ रहता हैं. इस वजह से आपको वेट लोस करने में मदद मिलती हैं.

शुगर को कंट्रोल रखने में फायदेमंद

अगर आप चिरायता का पानी रोजाना पीते हैं. तो इससे आपका ब्लड शुगर हमेशा के लिए नोर्मल बना रहता हैं. कुछ दिन तक चिरायता का सेवन करने से शुगर की बीमारी में लाभ मिलता हैं. साथ साथ आपको कब्ज और अपच की समस्या भी छुटकारा मिलता हैं.

दिन में कितनी रस्सी कूदने चाहिए – रस्सी कूदने का सही समय 

त्वचा के लिए फायदेमंद

अगर आपके मुंह पर काफी सारे मुंहासे और काले धब्बे बने हुए हैं. तो आपको चिरायता के पानी से मुंह को धोना चाहिए. यह आपकी त्वचा को अंदर से साफ़ करने में आपकी मदद करता हैं.

चिरायता आपकी त्वचा के अंदर तक जाकर खून को साफ़ करने में अच्छा माना जाता हैं. इसलिए त्वचा से जुडी समस्या को ठीक करने में भी चिरायता काफी लाभदायी माना जाता हैं.

लीवर के लिए फायदेमंद

कई बार पित्त से जुडी बीमारी होने पर इसका सीधा असर हमारे लीवर पर होता हैं. इससे हमारा लीवर धीरे धीरे काम करना बंद कर देता हैं. ऐसे में चिरायता पीने से लीवर को शक्ति मिलती हैं. तथा लीवर डीटोक्स करने में भी मदद मिलती हैं. इसलिए लीवर को हेल्थी रखने के लिए भी चिरायता पीना अच्छा माना जाता हैं.

ब्रेन के लिए फायदेमंद

चिरायता हमारे ब्रेन के लिए भी फायदेमंद माना जाता हैं. यह हमारे दिमाग को शांत करने का काम करता हैं. ऐसा माना जाता है की चिरायता का सेवन करने से हमारी चिंता में कमी आती हैं. तथा हमारा ब्रेन अच्छे से काम करने लगता हैं.

चिरायता कितने दिन पीना चाहिए

अगर आप चिरायता पीते हैं. तो आपको अधिकतम तीस दिन तक चिरायता पीना चाहिए. इससे अधिक दिन चिरायता नही पीना चाहिए. क्योंकि अधिक दिन चिरायता पीने से आपको नुकसान भी हो सकता हैं. इसलिए तीस दिन से अधिक दिन चिरायता नही पीना चाहिए.

Chirayta-pine-ka-tarika-fayde (3)

हाथ के नाख़ून पर सफ़ेद निशान का मतलब होता है 

निष्कर्ष

दोस्तों आज हमने आपको इस आर्टिकल के माध्यम से चिरायता पीने का तरीका बताया है. इसके अलावा इस टॉपिक से जुडी अन्य और भी जानकारी प्रदान की हैं.

हम उम्मीद करते है की आज का हमारा यह आर्टिकल आपके लिए उपयोगी साबित हुआ होगा. अगर उपयोगी साबित हुआ हैं. तो आगे जरुर शेयर करे. ताकि अन्य लोगो तक भी यह महत्वपूर्ण जानकारी पहुंच सके.

पेशाब का दूधिया सफेद रंग की उपस्थिति के कारण है – सम्पूर्ण जानकारी

प्रेगनेंसी में सीधा सोना चाहिए या नहीं – प्रेगनेंसी में क्या नहीं करना चाहिए

Shailesh Nagar

Leave a Comment