भगवत गीता घर में रखना चाहिए या नहीं / घर में गीता रखने से क्या होता है

भगवत गीता घर में रखना चाहिए या नहीं / घर में गीता रखने से क्या होता है – जिस प्रकार हर एक धर्म में कोई ना कोई एक धार्मिक ग्रंथ होता हैं. जिसका महत्व सबसे अधिक होता हैं. उसी प्रकार हिंदू सनातन धर्म में भगवत गीता को धार्मिक ग्रंथ माना गया है. इस ग्रंथ को हिंदू धर्म में सबसे अधिक महत्व दिया गया हैं. भगवत गीता का पाठ नियमित रूप से करने से और उसमें बताई गई बातों का अमल करने से मनुष्य जीवन सुधर जाता हैं.

Bhagwat-geeta-ghar-me-rakhna-chahie-ya-nhi-kya-hota-h (1)

मनुष्य के जीवन में बहुत सारी अडचने आती रहती हैं. जो लोग नियमति रूप से भगवत गीता का पाठ करते हैं. वह आसानी से अडचनों को समाप्त करके आगे निकल जाते हैं. भगवत गीता के बारे में ऐसी ही कुछ बातें इस आर्टिकल में बताएगे. इसलिए हमारा यह आर्टिकल अंत तक जरुर पढ़े.

दोस्तों आज हम आपको इस आर्टिकल के माध्मय से बताने वाले है की भगवत गीता घर में रखना चाहिए या नहीं तथा घर में गीता रखने से क्या होता है. इसके अलावा इस टॉपिक से जुडी अन्य और भी महत्वपूर्ण जानकारी प्रदान करने वाले हैं.

तो आइये हम आपको इस बारे में संपूर्ण जानकारी प्रदान करते हैं.

भगवत गीता घर में रखना चाहिए या नहीं

भगवत गीता हिंदू धर्म का धार्मिक ग्रंथ माना जाता हैं. इसलिए भगवत गीता को घर में रख सकते हैं. भगवत गीता को घर के मंदिर में या फिर मंदिर के आसपास किसी साफ़-सुथरी जगह पर रखना चाहिए.

घर में गीता रखने से क्या होता है    

घर में गीता रखने से कुछ नहीं होता हैं. घर में रखी हुई गीता का नियमति पाठ करने से मनुष्य के जीवन में काफी सारे बदलाव आते हैं. मनुष्य के जीवन में सुधर आता हैं. गीता में लिखी हुई बातों का अपने जीवन में पालन करने से जीवन में परिवर्तन आता हैं.

जो व्यक्ति रोजाना गीता का पाठ करता हैं. वह जीवन में कभी भी दुखी नहीं होता हैं. इसलिए घर में गीता रखने से कुछ नहीं होगा. घर में रखी हुई गीता का पाठ करने से विभिन्न प्रकार के लाभ होगे.

Bhagwat-geeta-ghar-me-rakhna-chahie-ya-nhi-kya-hota-h (2)

भगवत गीता का पाठ कैसे करे

भगवत गीता का पाठ करने के लिए निम्नलिखित बातों का पालन करे:

  • वैसे तो आप भगवत गीता का पाठ किसी भी समय कर सकते हैं. लेकिन जिस प्रकार पूजा पाठ के लिए सुबह का समय सर्वोत्तम माना गया हैं. उसी प्रकार भगवत गीता का पाठ सुबह के समय करना अतिउत्तम माना गया हैं.
  • यह पवित्र ग्रंथ होने के कारण खराब हाथ से छूना नहीं चाहिए. सुबह स्नान आदि करने के बाद ही भगवत गीता का पाठ करना चाहिए.
  • भगवत गीता का पाठ करने से पहले चाय, दूध, कोफ़ी नास्ता आदि का सेवन न करे तो अच्छा रहेगा. पाठ करने के पश्चात ही अपनी दूसरी दैनिक क्रिया करे.
  • पाठ की शुरुआत करने से पहले भगवान गणेश और श्री कृष्ण के नाम का जाप करना चाहिए.
  • इसके पश्चात आप पाठ करने की शुरुआत कर सकते हैं. पाठ करने के दौरान बीच में किसी से बात न करे.
  • पाठ हमेशा किसी भी आसन पर बैठकर ही करना चाहिए.
  • अगर आप गीता पाठ करते है. तो स्वयं ही गीता का अच्छे से रख-रखाव करे.
  • गीता में जो अध्याय आपने शुरू किया उस अध्याय को पूर्ण करने के बाद ही उठना चाहिए.
  • गीता का पाठ शुरू करने से पहले और पूर्ण करने के बाद अपने माथे पर लगाकर प्रणाम जरुर करे.
  • भगवत गीता का पाठ पूर्ण हो जाने के बाद भगवत गीता की आरती अवश्य करे.
  • बस यही नियम आपको नियमति रूप से बनाए रखने हैं.

गीता का कौन सा अध्याय पढ़ना चाहिए

गीता का कोई भी अध्याय आप पढ़ सकते हैं. लेकिन एक बात का विशेष ध्यान रखना है. की आपने जिस अध्याय की शुरुआत की है. उसे संपूर्ण पढ़कर ही उठे.

Bhagwat-geeta-ghar-me-rakhna-chahie-ya-nhi-kya-hota-h (3)

निष्कर्ष                                         

दोस्तों आज हमने आपको इस आर्टिकल के माध्यम से बताया है की भगवत गीता घर में रखना चाहिए या नहीं तथा घर में गीता रखने से क्या होता है. इसके अलावा इस टॉपिक से जुडी अन्य जानकारी भी प्रदान की हैं. हम उम्मीद करते है की आज का हमारा यह आर्टिकल आपके लिए उपयोगी साबित हुआ होगा. अगर उपयोगी साबित हुआ हैं. तो आगे जरुर शेयर करे.

दोस्तों हम आशा करते है की आपको हमारा यह भगवत गीता घर में रखना चाहिए या नहीं / घर में गीता रखने से क्या होता है आर्टिकल अच्छा लगा होगा. धन्यवाद

 

Shailesh Nagar

Leave a Comment